ढुंढाड़ी भासा विकास को परबाव

  • ईनअ बोलबाळा अपणी भासा अर संस्करति की पचाण सूं परेम करअ छ अर ऊंको मान-सम्मान करअ छ।
  • ज्यूंईं पडाई मायड़ भासा मंअ सुरू हअ छ, तो अपणा समुदाय सूं ओर जादा लोग-बाग पड्या-लिख्या हअज्याला।
  • या पक्‍की छ कअ कसी बी मायड़ भासा, दनियां की नरी भासा मंअ आगअ बडबा कअ तोड़ी जागरूक करअ छ।
  • आपणा पराणा टेम सूं चालता आर्या-सांस्करतिक, धारमिक कार्यकरम, तुंवार यां सब की आबाळी पीडी नअ जाणकारी देली।