चरड़-मरड़ की जूती पैरै, चोमू सहर कचोळ्या की॥(टेर)


लाल गिटी का चूड़ा पैरै माहर ओर सामोत की।
नथली पैरै नाक चडावै, बअ बांसा का नेड़ा की॥
चरड़-मरड़ की जूती पैरै, चोमू……॥(1)


मोटा-मोटा बोर बेचै, दोलपरा बगवाड़ा की।
सगा कसम कै जूता मारै, काळवाड़ मुड़ोता की॥
चरड़-मरड़ की जूती पैरै, चोमू……॥(2)


काठी बेचर ल्यावै कणुका, नींदड़ ओर हरमाड़ा की।
पीडा पै बैठी रोटी खावै छार्यां चकवाड़ा की॥
चरड़-मरड़ की जूती पैरै, चोमू……॥(3)


पांवणा नै पावै राबड़ी, हस्तेड़ा भूतेड़ा की।
सारैदनभर खार सोती, घिणोईं का नेड़ा की॥
चरड़-मरड़ की जूती पैरै, चोमू……॥(4)


उण्डी-उण्डी रोटी पोवै, घी घालै ईटावा की।
या कथा खियो बत्‍तीस गांवां की॥
चरड़-मरड़ की जूती पैरै, चोमू……॥(5)