ईंकअ साथ उन्‍नती:- निरमाण सोसाइटी

निरमाण सोसाइटी नअ अलग-अलग समुदाय की बोली-भासा अर संस्करति नअ दूबारां सूं जीवत करबा की मंसा सूं बाणायेड़ी छ। रास्तान मंअ ढुंढाड़ी नअ नरा जणा बोलअ छ, जिसूं बी ईनअ दनियां जाणअ छ। यांका बारा मंअ ज्यो जाणकारी कर्या छ, वांकी हर भासा की अलग-अलग पचाण, संस्करति, इतियास अर विसेसता छ। निरमाण सोसाइटी असी भासा समुदाय कअ साथ काम करबा को जिम्‍मो उठाई छ, यांमंअ सूं नीचअ लिखेड़ा काम कर्री छ।

(क) मायड़ भासा का जरिया सूं साक्सरता को विकास करबो।

(ख) वांकी भासा मंअ साइत्य त्यार करबो।

(ग) वांकी भासा मंअ एक अलग-अलग भासा को सबदकोस त्यार करबो।

उपरअ की सूची मंअ, निरमाण अब या बी जोड़ी छ, ईं वेबसाइट नअ बडाबा कअ तोड़ी ढुंढाड़ी बोलबाळा नअ त्यार कर्या छ।