ढुंढाड़ी चुटकला

ढुंढाड़ी मअ चुटकला 1-15

(1)
तमाकू सूं दूरां रिज्यो
सोजी : एक बार कळी कअ सात-आठ फुट की नहं लगार तमाकू पीर्यो छो।
बदरी : अतरी लम्बी नहं लगार तमाकू क्यूं पीर्यो छ?
सोजी : मन डागदर तमाकू सूं दूरां रअबा बेई खियो छो।

ढुंढाड़ी चुटकला 16 -30

(16)
छोटा बाळ
मदन : यार गोपी तू अतरा छोटा बाळ क्यूं कटवायो छ?
गोपी : अरअ यार म्हारकन तीन रफ्या खुल्ला कोन छा, जिसूं म्ह नाई नअ खियो कअ, तीन रफ्यां का बाळ ओर काटलअ।